NCR

लाल किले से विश्वभर में गूंजेगी गीता की अमरवाणी : स्वामी ज्ञानानंद जी महाराज 
(Yogesh Gautam) Dainikkhabre.com Tuesday,26 November , 2019)

New Delhi  News,26 Nov 2019 (dainikkhabre.in) : ऐतिहासिक लाल किले से गीता की अमर वाणी विश्वभर में गुंजायमान होकर स्वच्छ स्वस्थ भारत, समरस भारत और नशामुक्त भारत का संदेश देगी। जियो गीता परिवार द्वारा आयोजित गीता प्रेरणा महोत्सव 2019 में विश्वभर की जानी मानी हस्तियां इस गौरवमयी ऐतिहासिक समारोह में शिरकत करेंगी। आरएसएस के सरसंघचालाक डॉ. मोहन जी भागवत बतौर मुख्यातिथि समारोह के गवाह बनेंगे और अपना संदेश देंगे। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला समेत कई केंद्रीय मंत्रियों की गरिमामयी उपस्थिति रहेगी। सभी राज्यों के मुख्यमंत्री, राज्यपाल, लोकसभा एवं राज्यसभा सांसद को भी समारोह का निमंत्रण भेजा जाएगा। विभिन्न देशों के राजदूत और प्रबुद्धजन भी इस दिव्य समारोह के साक्षी बनेंगे। दिल्ली के लाल किला मैदान में 1 दिसंबर को गीतमनीषि महामंलेश्वर स्वामी ज्ञानानंद जी महाराज के नेतृत्व में होने वाले इस समारोह की तैयारियों को अंतिम रूप दे दिया गया है।

महोत्सव का उद्देश्य
जानकारी देते हुए गीतमनीषि महामंलेश्वर स्वामी ज्ञानानंद जी महाराज ने बताया कि गीता की अनमोल वैश्विक प्रेरणा केवल गीता शास्त्र के पन्नों या पूजा-पाठ, मठ-मंदिर या आश्रम तक ही सीमित न रह  जाएं इसलिए ये महोत्सव आयोजित किया जा रहा है। सिर्फ मरणासन्न व्यक्ति को गीता सुनाने तक काम नहीं चलेगा, जबतक विश्वभर में हर क्षेत्र, प्रत्येक वर्ग, प्रत्येक व्यावसाय के लोग ऐसा जानने और मानने न लगें की गीता हमारे लिए व्यावहारिक, प्रासंगिक और अत्यंत मांगलिक प्रेरणा है। विश्व बंधुत्व-वसुधैव कुटुंबकम की भारतीय गरिमा समूचे विश्व में पहचान उद्देश्य है।
कार्यक्रम की भव्यता
18 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के 18 हजार युवक-युवतियां, देशभर से 1800 अर्चक, धर्म स्थानों के सेवाधिकारी, पुजारी, कर्मकांडी अथवा प्रबुद्ध शिक्षित आचार्य विप्रजनों की उपस्थिति रहेगी। 18 प्रांतों का प्रतिनिधित्व करते हुए एलोपैथी, होम्योपैथी, आयुर्वेद तथा अन्य चिकित्सा पद्धतियों के 1800 डिग्रीयुक्त चिकित्सक, न्याय क्षेत्र से जुड़े 1800 प्रबुद्धजन, 1800 शिक्षाविद, धार्मिक-सामाजिक संस्थाओं के 1800 प्रतिनिधि, ग्रामीण क्षेत्रों से 1800 जन प्रतिनिधि, सेवानिवृत्त, सेवारत सैन्य, सुरक्षा, प्रशासकीय व्यवस्थाओं से जुड़े 1800 प्रतिनिधि व जियो गीता से जुड़े करीब 9000 से अधिक परिवार, कई देशों के राजदूत, उच्चायुक्त, संस्था प्रतिनिधि एवं गीता प्रेमी उपस्थित रहेंगे। कुलपति, उपकुलपति, रजिस्ट्रार, शैक्षणिक संस्थानों के स्वामी, प्रोफेसर, लेक्चरर, प्रिंसिपल, मुख्याध्यापक, अध्यापक और आचार्य विशेष रूप से मौजूद रहेंगे।
18 की संख्या का विशेष महत्व
गीता के 18 अध्याय हैं। महाभारत के युद्ध  में 18 अक्षोहिणी सेना थी। युद्ध में सत्य विजय का शंखनाद भी 18 दिन पश्चात हुआ था। इसी दृष्टि से 18 का विशेष महत्व है।
मिलेगा सम्मान
खेल जगत, उद्योग जगत, दिव्यांग क्षेत्र के प्रमुख प्रेरक व्यक्तित्व, गीता पर विशेष चिंतन या गीता से प्रेरणा पाकर सफलता अर्जित करने वाले प्रबुद्धजनों को गीता सम्मान मिलेगा। वहीं, हर सहभागी को एक प्रशस्तिपत्र एवं संकल्पपत्र भी दिया जाएगा।
अलग ब्लॉक रहेंगे
अलग-अलग फील्ड से जुड़े लोगों को बैठाने के लिए अलग ब्लॉक बनाए जाएंगे।सबके लिए एक जैसी पोशाक होगी। पोशाक में विशेष संकेत लगेंगे जिनसे पहचान होगी और व्यवस्था में तैनात सेवक उन्हें उनके ब्लॉक तक पहुंचाएंगे।
सर्वधर्म की दिखेगी झलक
समारोह में सभी धर्मों के प्रबुद्धजनों को आमंत्रित किया गया है। यह गीता प्रेरणा महोत्सव सर्वधर्म एकता का संदेशवाहक भी बनेगा। प्रमुख सन्तों, विभिन्न क्षेत्रों के प्रबुद्धजनों, चिंतकों और विस्तारकों का उदबोधन भी होगा।  

Videos

slider by WOWSlider.com v8.6